वाहगुरु की अच्छाई और सर्व व्यापकता पर भरोसा

by Gurwinder

एक मित्र को यह चिंता लगी रहती थी कि उसने जिस व्यापारी के साथ पन्द्रह दिन बाद मुलाकात करनी है, वह मुलाकात सफल होगी भी या नहीं, कहीं कोई गलतफहमी ओर ना बड़ जाए | उस मित्र को एकदम से ख्याल आया कि जब भी वह व्यापारी से मिलेगा, तब उस समय, हर वक्त की तरह, वाहेगुरु उसके अंग-संग ही रहेंगे, तो फिर यह गलतफहमी कैसे ब बड़ सकती है? वाहेगुरु जी दोनों तरफ से उन दोनों की मुलाकात सफल बनाने में उनकी सहायता करेंगे| जब उसको वाहगुरु की अच्छाई और सर्व व्यापकता पर यकीन, तो उसका सारा डर खत्म हो गया और वह भरोसे से उस दिन की उड़ीक करने लग गया जब उसकी उस व्यापारी से मुलाकात होनी थी, जब वह दिन आया तब उसकी मुलाकात बहुत ही कामयाबी भरी तथा अच्छी निकली, दोनों तरफ़ प्रशंसा भरा भरोसा पैदा हो गया|
पुस्तक- सर्व रोग का औखद नाम
रघवीर सिंह बीर

You may also like