Stories related to andhvishvash

  • 102

    घोड़ी

    April 28, 2018 0

    पाखंडी बाबा का दरबार लगा था, औरतें पास बैठी थी, और पूछ पूछ कर जा रही थी| एक बुडी माता ने आकर बाबा जी के पांव पर 5 रुपए का नोट रखा और विनती की "बाबा जी, हमारी घोड़ी चोरी…

    ਪੂਰੀ ਕਹਾਣੀ ਪੜ੍ਹੋ