जिंदगी की रफ्तार

by Gurwinder

किसी व्यक्ति ने नई कार खरीदी| वह सोच रहा था कि सारे लोग उसकी नई कार को देखेंगे| वह बड़ी तेजी से कार चला रहा था, तभी अचानक ईंट का एक टुकड़ा उसकी कार को लग गया| उसने अपनी गाड़ी को सड़क के एक किनारे रोक लिया, वहां पर एक छोटा सा लड़का खड़ा था, उसने उसको पकड़ लिया| वह लड़के को पीटने ही लगा था, लड़के ने बोला: मुझे माफ करना, कोई भी रुक नहीं रहा था, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था कि गाड़ी रोकने के लिए मैं क्या करूं, मेरी अपाहिज बहन की पहियों वाली कुर्सी गिर गई थी, और मैं उसे उठाने में असमर्थ था| परमात्मा आपका भला करें, मुझे माफ कर दो| कार के मालिक ने उस अपाहिज लड़की को उठाकर उस की कुर्सी सीधी करके उसपर बिठा दिया| भाई बहन उस कार के मालिक का धन्यवाद करके चले गए| गाड़ी के मालिक ने ईंट के टुकड़े के कारण बने निशान को ठीक नहीं करवाया, क्योंकि वह निशान उसे हर पल याद दिलाता रहता था के जिंदगी में से इतनी जल्दी नहीं निकलना चाहिए जिसके लिए किसी को आपका आकर्षित करने के लिए एक का टुकड़ा मारना पड़े|

स्रोत: व्हाट्सएप

You may also like