एक बात जो सुकरात ने सुनने से मना कर दी

by Gurwinder

एक आदमी ने प्रसिद्ध यूनानी फिलॉस्फर सुकरात को बोला: क्या आपको पता है के आपके एक शागिर्द ने क्या किया है? यह सुनकर सुकरात ने उससे पूछा: पहले तुम यह बताओ, जो तुम बताने जा रहे हो, वह पूर्ण रूप से सच और सही है? उसने बोला: मैंने केवल सुना है, मुझे नहीं पता कि यह सच है और झूठ है| सुकरात ने पूछा: जो तुम बताने लगे हो, क्या वह अच्छी बात है? उसने बोला: नहीं अच्छी बात नहीं| सुकरात ने पूछा: जो तुम मुझे बताने लगे हो, क्या उससे मेरा मुनाफा होगा? उसने बोला: नहीं मुनाफा नहीं होगा, परंतु बात बतानी जरूरी है| सुकरात ने बोला: यह सब जानते हुए के यह बात सच नहीं है, अच्छी नहीं है, फायदेमंद नहीं है, फिर भी तुम मुझे बताने के लिए जिद कर रहे हो| मति बताओ रहने दो मैं यह सुनना नहीं चाहता|

लेखक: नरेंद्र सिंह कपूर

You may also like