आपका व्यक्तित्व आपके कार्यों जितना ही महत्वपूर्ण है।

आपका व्यक्तित्व इतनी तेज़ आवाज़ में बोलता है कि मैं आपके कहे शब्द नहीं सुन पाता हूँ।

राल्फ़ वाल्डो इमर्सन

ओक्लाहामा सिटी में शनिवार की गर्म दोपहर थी। मेरा दोस्त बॉबी लुइस अपने दो छोटे बेटों को मिनिएचर गोल्फ़ खिलाने ले जा रहा था। उसने टिकट काउंटर पर जाकर पूछा, “अंदर जाने का टिकट कितने का है ?”

वहाँ बैठे युवक ने जवाब दिया, “छह साल से बड़ी उम्र के लोगों के तीन डॉलर। छह साल या उससे कम उम्र के बच्चों का कोई टिकट नहीं लगेगा। आपके बच्चों की उम्र कितनी है?” । बॉबी ने जवाब दिया, “वकील की उम्र तीन साल है और डॉक्टर की उम्र सात साल है, इसलिए मुझे लगता है कि मुझे आपको छह डॉलर देने पड़ेंगे।”

टिकट काउंटर पर बैठे युवक ने कहा, “क्या आपकी लॉटरी लग गई है? आप तीन डॉलर बचा सकते थे। आप मुझसे कह सकते थे कि बड़ा लड़का छह साल का है। मुझे पता नहीं चल पाता।”

बॉबी ने जवाब दिया, “हाँ, हो सकता है आपको पता नहीं चलता, लेकिन बच्चों को तो पता चल जाता।”

जैसा राल्फ़ वाल्डो इमर्सन ने कहा था, “आपका व्यक्तित्व इतनी तेज़ आवाज़ में बोलता है कि मैं आपके कहे शब्द नहीं सुन पाता हूँ।” चुनौती के इस दौर में नैतिकता पहले से ज्यादा महत्वपूर्ण हो गई है, इसलिए यह सुनिश्चित करें कि आप हर व्यक्ति के सामने अच्छा उदाहरण पेश करें।

पैट्रिशिया फ़िप

  • ਪੁਸਤਕ: आत्मा के लिए अमृत
Share on Whatsapp