यहूदी लोगों के साथ खुशहाली

यूरोप के कई ईसाई लोग यहूदियों से सिर्फ इसी लिए नफरत करते हैं, क्योंकि एक यहूदी बादशाह ने ईसा को सूली पर लटका दिया था| दो हज़ार साल, शरणार्थियों की तरह भटकने के बाद यहूदी अब इजरायल में रहने के लिए योग्य हो गए हैं| अपनी शरणार्थी काल के दौरान, यहूदियों ने संयम, मेहनत और ज्ञान के साथ हर क्षेत्र में प्रसिद्धि कमाई है| वह जहां भी गए, वहां-वहां उनके कारण खुशहाली आई है| विश्व के बड़े बैंकों के मालिक यहूदी है, विश्व के बड़े वैज्ञानिक यहूदी है| इन सब बातों के बावजूद भी यहूदी, ईसाइयों की नफरत का शिकार हो रहे हैं| यूरोप में एक बार, एक गाड़ी में एक सवारी ने, साथ वाले सवार से पूछा: क्या आप यहूदी हो? सुनने वाले ने उत्तर दिया: हां मैं यहूदी हूं| पूछने वाले ने उसको बताया: मैं जिस गांव में रहता हूं, वहां एक भी यहूदी नहीं है| हमने सभी यहूदियों को निकाल दिया है| यहूदी सवारी ने सुनने के बाद बोला: इसलिए आपका गांव, अभी भी गांव ही है|

नरिंदर सिंह कपूर

पुस्तक: खिड़कियां

Likes:
Views:
33
Article Categories:
Mix

Leave a Reply