किसी को अपना सपना चुराने न दें

मॉन्टी रॉबर्ट्स नाम का मेरा एक दोस्त है। उसका सैन सिडरो में घोड़ों का रैंच है। जब मुझे युवा कल्याण कार्यक्रमों में चंदा इकट्ठा करते समय सैन सिडरो में जगह की ज़रूरत पड़ी, तो मॉन्टी ने मुझे उस रैंच का इस्तेमाल करने दिया।

जब मैं पिछली बार वहाँ गया, तो उसने वहाँ उपस्थित लोगों के समूह को मेरा परिचय देते हुए कहा, “मैं आपको बताना चाहता हूँ कि मैं जैक को अपने घर का इस्तेमाल क्यों करने देता हूँ। यह बहुत पुरानी बात है। एक छोटा लड़का था, जो घोड़ों के घुमंतू प्रशिक्षक का बेटा था। वह प्रशिक्षक इस अस्तबल से उस अस्तबल, इस रेस ट्रैक से उस रेस ट्रैक, इस खेत से उस खेत और इस रैंच से उस रैंच तक जाकर घोड़ों को प्रशिक्षित करता था। परिणाम यह हुआ कि उस लड़के के हाई स्कूल अक्सर बदलते रहे। जब वह सीनियर क्लास में पहुँचा, तो उससे एक निबंध लिखने को कहा गया कि वह बड़ा होकर क्या बनना और करना चाहता है।

“उस रात उस लड़के ने सात पेज का एक निबंध लिखा, जिसमें उसने बताया कि उसका लक्ष्य घोड़ों के रैंच का मालिक बनना है। उसने अपने सपने को पूरे विस्तार से लिखा और 200 एकड़ के रैंच की एक  खींची, जिसमें उसने सभी इमारतों, अस्तबलों और ट्रैक की ड्राइंग बनाई । फिर उसने 4,००० वर्ग फुट के मकान की विस्तृत योजना खींची, जिसे वह 200 एकड़ के रेंच पर बनाना चाहता था।

उसने उस प्रोजेक्ट में अपना दिल खोलकर रख दिया और अगले अपने सपने के अनुरूप जिएँ 178 दिन टीचर को वह निबंध थमा दिया। दो दिन बाद उसे उसका । वापस मिल गया। सामने वाले पेज पर एक बड़ा लाल एफ (फेल) था। उसके नीचे लिखा था, ‘क्लास के बाद मुझसे मिलो।’

सपने देखने वाला लडका क्लास के बाद टीचर से मिलने . उसने पूछा, “आपने मुझे फ़ेल क्यों किया?’

“टीचर ने कहा, “तुम जैसे लड़के के लिए यह एक काल्पनिक सपना है। तुम्हारे पास पैसे नहीं हैं। तुम खानाबदोश परिवार के हो। तुम्हारे पास संसाधन नहीं हैं। घोड़ों के कैंच का मालिक बनने के लिए बहुत पैसों की ज़रूरत होती है। तुम्हें ज़मीन खरीदनी पड़ेगी। तुम्हें घोड़े खरीदने पड़ेंगे, और इसके बाद घोड़ों की देखभाल के लिए काफ़ी महँगे सामान की ज़रूरत होगी। तुम यह काम किसी हालत में नहीं कर सकते।’ फिर टीचर ने आगे कहा, “अगर तुम इस निबंध को दोबारा लिख दो और कोई। यथार्थवादी लक्ष्य बना लो, तो मैं तुम्हारे ग्रेड पर विचार करने के लिए तैयार हैं। ‘

“वह लड़का घर गया और उसने इस बारे में काफ़ी देर तक सोचा। उसने अपने पिता से पूछा कि उसे क्या करना चाहिए। उसके पिता ने कहा, “देखो बेटे, तुम्हें इस मामले में खुद फैसला करना होगा। बहरहाल, मुझे लगता है कि यह एक बहुत महत्वपूर्ण निर्णय है।।

“आख़िर हफ्ते भर तक विचार करने के बाद उस लड़के ने टीचर को वही निबंध ज्यों का त्यों दे दिया और कहा, “आप अपने एफ़ ग्रेड को । क़ायम रखें और मैं अपने सपने को क़ायम रखुँगा।”

मॉन्टी समूह की तरफ़ मुड़कर आगे बोला, “मैं आपको यह कहानी इसलिए बता रहा हूँ, क्योंकि आप इस समय मेरे 200 एकड़ के घोड़ी की अँच के बीच में बने मेरे 4,000 वर्ग फुट के इस मकान में बैठे हैं। मन उस स्कल के निबंध को मढ़वाकर अँगीठी के ऊपर टाँग रखा है। उत्त” आगे कहा, “इस कहानी का सबसे अच्छा हिस्सा यह है कि दो साल १ वही स्कूल टीचर 30 बच्चों को लेकर मेरे अँच पर एक सप्ताह रुक आए। जाते समय वे बोले, “देखो मॉन्टी, मैं तुम्हें अब यह बात बतात हैं। जब मैं तुम्हारा टीचर था, तो एक तरह से मैं सपने चुराने का करता था। उन वर्षों में मैंने बहुत से बच्चों के सपने चुराए। साभा पर्ने चुराने का काम चुराए। सौभाग्य से तुममें इतना संकल्प था कि तुमने मुझे अपना सपना नहीं चुराने दिया।”

कभी किसी को अपने सपने न चुराने दें। अपने दिल की बात सुनें, चाहे परिणाम जो भी हो।

जैक कैनफ़ील्ड

  • ਪੁਸਤਕ: आत्मा के लिए अमृत
Share on Whatsapp